सोमवार, अगस्त 15

भारति जय विजय करे,
कनक शस्य कमल धरे/
लंका पदतल शतदल, गर्जितोर्मि सागर जल
धोता शुचि चरण युगल, स्तव कर बहु अर्थ भरे/
तरु तृण वन लता वसन, अन्चल मे खचित सुमन
गंगा ज्योतिर्जल कण, धवल धार हार गले/
मुकुट शुभ्र हिम तुषार. प्राण प्रणव ओंकार
मुखरित दिशायें उदार, शतमुख शतरव मुखरे/
महाकवि सूर्यकान्त त्रिपाठी "निराला"

1 Comments:

Blogger Ram Chandra Lakhara said...

Nice blog Bhaskar ji. And your poems are also good.

please take a walk to my blog
www.kavy-prerna.blogspot.in

12:56 am  

एक टिप्पणी भेजें

<< Home